No Picture
Hindi Articles

ज्ञानपीठ पुरस्कार-प्राप्त कविवर ‘कुसुमाग्रज’

January 23, 2018 सुभाष नाईक 0

(यह लेख ‘कुसुमाग्रज’ जी के निधन के कुछ समय पश्चात् , साहित्य अकादेमी की पत्रिका ‘समकालीन भारतीय साहित्य’  में प्रकाशित हुआ था । )   दस मार्च १९९९ को कविवर ‘कुसुमाग्रज’ ( वि. वा. शिरवाडकर […]

No Picture
Hindi / Hindustani Ghazals

पड़ोसी (ग़ज़ल)

January 23, 2018 सुभाष नाईक 0

अड़ियल पड़ोसी मुझ को हर दिन तंग करता है बार बार  वो  रंग का बेरंग  करता है    ।   बुलवाता है कौन इससे  बातें बड़ी बड़ी ? छुप छुप कर वो किस से ज़हरीला संग […]

No Picture
Hindi / Hindustani Ghazals

इस बेदिली का क्या करूँ ? (ग़ज़ल)

January 23, 2018 सुभाष नाईक 0

इस बेदिली का क्या करूँ ? इस ज़िंदगी का क्या करूँ  ?   जब दोस्त दुश्मन से बुरे, तब दोस्ती का क्या करूँ ?   बेवफ़ाई धरम जब , ईमाँ-यकीं का क्या करूँ  ?   […]

No Picture
Hindi / Hindustani Ghazals

ज़्यादा ज़्यादा (ग़ज़ल)

January 23, 2018 सुभाष नाईक 0

वो न आते अब, याद आती है  ज़्यादा ज़्यादा रंज की सदा दिल जलाती है  ज़्यादा ज़्यादा  ।   रखते थे  सर मेरे सीने पे वो कभी कभी ख़ाली  छाती कचोट खाती है  ज़्यादा ज़्यादा  […]

No Picture
Hindi / Hindustani Ghazals

लिख रहा हूँ (ग़ज़ल)

January 23, 2018 सुभाष नाईक 0

हाले दिल जुनून से मैं लिख रहा हूँ अफ़साना ख़ून से मैं लिख रहा हूँ  ।   ज़िंदगी के कागजों पे उनका ही नाम ख़ूब ही सक़ून से मैं लिख रहा हूँ  ।   ना […]

No Picture
Hindi / Hindustani Ghazals

गुल कब खिले (ग़ज़ल)

January 23, 2018 सुभाष नाईक 0

गुल कब खिले , कुछ ख़बर नहीं दिल कब मिले , कुछ ख़बर नहीं  ।   दो क़दम पे तुम थे, नज़रबंद हम कब लगे गले , कुछ ख़बर नहीं  ।   तुमसे मिलके  यूँ […]

No Picture
Hindi / Hindustani Verses

प्यार की राह पर चलना अजी आसान नहीं (गीत)

January 23, 2018 सुभाष नाईक 0

प्यार की राह पर चलना अजी आसान नहीं प्यार ही अमृत मधुर है , ज़हर भी है प्यार ही   ।   सनम  गर मिल गया तो  ज़ीस्त में खिलती  ख़ुशी स्वर्ग को दिल स्पर्श करता […]

No Picture
Hindi / Hindustani Ghazals

बड़ी ज़िंदगी में कमी रह गई (ग़ज़ल)

January 23, 2018 सुभाष नाईक 0

लाश बन दबी मर्दुमी रह गई बड़ी ज़िंदगी में कमी रह गई  ।   देख के इबादत ख़ुदा पास आया दूर, संगदिल, तू जमी रह गई  ।   नहीं याद मंज़र, चेहरा न तब का […]

No Picture
Hindi / Hindustani Ghazals

पहले ये तो सीख ( ग़ज़ल )

January 23, 2018 सुभाष नाईक 0

आख़िर तू इन्सान है, पहले ये तो सीख स्याना या नादान है, पहले ये तो सीख  ।   जग की रस्मों के ख़िलाफ़ गर लड़ना हो तो होना ही अपमान है, पहले ये तो सीख  […]